Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Flag counter

free counters

Tuesday, August 7, 2007

क्या लोचा है मामू"

क्या लोचा है मामू"

शाम को अपने मुन्ना भाई जी टॉक पर ऑनलाईन टंगे हुए थे कि अचानक गिरिराज जोशी कविराज का मैसेज आया और उन्होंने दो लिंक दिए और कहा कि यह क्या है, पहले तो अपुन सोचा कि लगता है कि अपने ऑर्कुट प्रोफ़ाईल में ये कविराज मामू को कोई गड़बड़ दिखेली है तभीच वो हमसे पूछ रेला कि यह क्या है भाई!फ़टाफ़ट अपन ने थोड़ा खीझते हुए अपने ऑर्कुट अकाऊंट पर लॉगिन किया (क्योंकि अपुन सिरफ़ पब्लिक को रिप्लाई देने के वास्ते उधर जाना पसंद करता है) और मामू के दिए लिंक्स को ओपन कर के देखा तो पाया कि यह प्रोफ़ाईल थी अपने बड़े भैया के छोटे भैया अमर सिंह की और उनके बाजु मे ही अपने खास बड़े भैया अमिताभ बच्चन की लिंक भी थी, बस फ़िर क्या था जोशी मामू लग लिए ऑर्कुट पर ऐसी ही और प्रोफ़ाईल ढूंढने में ( टेंशन ना लो मामू लोग, अपना जोशी मामू खाली पीली बैठा रहा होगा ना अपने दफ़्तर में भीड़ू), फ़टाफ़ट सचिन तेंदूलकर , शाहरुख खान, प्रतिभा पाटिल और ना जाने किन किन के प्रोफ़ाईल ढूंढ डाले और लिंक मेरे कू पकड़ा दिए और बोले एक पोस्ट बनती है इस बारे में ताकि सब लोग मजा ले सकें।अब साला अपुन सोच ही रेला था बहुत दिन से इंटरनेट और चैट के मिसयूज़ पर लिखने का, तो जब जोशी मामू ने मौका दे दिया मतलब कि धकेल कर कहा कि चढ़ जा बेटा सूली पे, तो अपन ने भी सोचा कि चलो लिखने का तो है ही लिख देते हैं, अपना क्या है टेंशन में तो पढ़ने वाले ही आएंगे ना।वो क्या है ना रे सर्किट अपुन जब इधर हिन्दी ब्लॉग जगत में नया-नया आएला था तो अपुन को एक हिन्दी चिट्ठा देखने को मिला था और लिखने वाला मामू ने लिखा था कि वह खुद अमिताभ बच्चन है, ये वाला ब्लॉग इधर रखेला है, अपुन नई जानता कि असली है या नकली।इधर अपुन ये सब सोच रेला था और उधर जोशी मामू ने मेरे कू थोक के भाव मे लिंक दे दिये, इसमें ऐश्वर्या बच्चन के नाम से ब्लॉग भी था। यार सर्किट, इधर अमिताभ के नाम से ब्लॉग है और उसकी बहू ऐश्वर्या के नाम से भी पन साला छोटा बच्चन के नाम से नई हैं अपने अभिषेक मामू को बुरा नई लगता होएंगा क्या, कांप्लेक्स फ़ीलिंग नई होती होएंगी क्या उसकू।

अब अपन सोच रेला है , गलती से कभी कभी सोचने जैसा काम कर लेता है अपुन( दुनिया पे थोड़ा एहसान करने के वास्ते भी और दिखाने के वास्ते भी)ऑर्कुट या ब्लॉग जगत पर ऐसे ही असली लोग भी आ जाए तो यही लगेगा ना मामू हो ना हो ये तो नकली ही होगा, नकल की भीड़ में असल की ही पहचान गायब हो जाएगी फ़िर तो, ये तो लोचे वाली बात है ना रे सर्किट।वैसे अपन को मालूम है कि इधर इंटरनेट पर खुराफ़ाती दिमाग वाले मामू लोग ऐसे ही खुराफ़ात करते रहते हैं,।

वो क्या है ना कि पिछले दिनों ऑर्कुट को बैन करने की मांग उठी थी उसके पीछू भी ऐसेइच कुछ कारण थे ना। जो भीड़ू और मामू लोग ऑर्कुट पर "सर्च की" का ज्यादा यूज़ करते हैं वो यहीच सोचते होंगे कि या खुदा ऑर्कुट का ऐसा भी उपयोग!!






इंटरनेट पर चैटिंग का लोचा हो या फ़िर ऑर्कूट का लोचा, इधर खुराफ़ाती भीड़ू लोगां के लिए बहुत कुछ है करने के वास्ते, मान लो किसी मामू को उसकी इंटरनेट चैट फ़िरेंड जो कि ब्यूटीफ़ुल है ने कोई भाव नई दिया अब खुन्नस में आके वो साला मामू अपनी फ़िरेंड का पर्सनल डिटेल जैसे कि फोन नंबर और सब चैट रुम में पब्लिकली कर देता होएंगा तो।ऐसे ही मान लो कोई बाई अपने किसी फ़िरेंड को अपना वेबकैम दिखाती होएंगी और वो खुराफ़ाती वेबकैम देखते-देखते उसकू रिकार्ड कर डाले तो। अब ऑर्कुट पे ही प्रतिभा पाटिल वाले प्रोफ़ाईल में देख लो ना मामू, उसमें एक फोन नंबर भी दिएला है। अब अपुन तो नई जानता कि वो कहां का और किसका नंबर है, पन खुराफ़ाती भीड़ू लोग उसपे कॉल नई कर सकते क्या।
तो मामू , सबको मालूम तो हइच कि तस्वीर का दो रुख होने का तो बाई लोग थोड़ा सेफ़ हो के चलने का ना इधर, नई तो बाद में टेंशन लेने का हो जाता।

यू नो सर्किट, अरे वो थोड़े दिन पहले सबसे तेज़ चलने वाले चैनल पर एक कार्यकरम भी आया था ना इसी टाइप का, कि इंटरनेट पर एक बंदे ने महसूस करके नाम वाली कोई एक ऐसी साईट बनाई है जिसपे ऐसे ही खुराफ़ाती वेबकैम वाले फोटोज़ का मिक्सिंग करके डाल देते और फ़िर जिसकी फोटो है वो टेंशन में जीए।

भीड़ू ऐसा है कि इंटरनेट पर सबसे ज्यादा चैटिंग अपने यहां याहू पर होती और सबसे ज्यादा लोचे भी याहू पर ही होते हैं सबसे ज्यादा काड़ी वाले साफ़्टवेयर भी याहू के लिए ही बनाते है अपने यहां के खुराफ़ाती भीड़ू लोग, मालूम तेरे कू कैसे कैसे, ले सुन ले-- वेबकैम रिकार्ड करने का, पासवर्ड चुराने का, चैटरुम में स्पाम बोट्स डाल के चैट रुम्ज़ को फ़ुल्ल कर देने का, थोक के भाव में बोट्स आई डी डाल कर गालियां देने का, किसी को कैसे जबरदस्ती उसकीच आई डी से जबरदस्ती साईन आऊट कराने का मतलब कि बूट कर देने का। याहू के मार्फ़त फ़ाईल भेजकर तुमेरे सिस्टम की जानकारी हैक करने का, और नई मालूम रे पन साला इत्ता सब है कम है क्या।

मालम तेरे कू सर्किट , खुराफ़ात ये खुराफ़ाती भीड़ू लोग करता है और साला भुगतना सब अपने सीधे मामू लोगों को भी पड़ता है।क्या बोला, कैसे?तो सुन, अरे बावा इत्ता सब खुराफ़ात होने के बाद सरकार और इंटरनेट के बॉस लोग जागते हैं और फ़िर उठा के सीधे उस साईट को ही अपने यहां बैन कर देते हैं ना रहे बांस ना बजे बाँसुरी।
अब भुगतो सीधे मामू लोग भी, पिछले साल अपने यहां ऐसाइच हुआ था ना यार, भूल गए क्या मामू।

No comments: